प्रतिक्रिया / सहायता / प्रश्न

ईमेल:
संदेश:
कैप्चाRF
Processing...

लॉग इन

कैप्चाRF
पासवर्ड भूल गए?उपयोगकर्ता नाम बनाएँ

सदस्यता लें!

निर्यात कैसे करें

 

 

कैसे निर्यात करें

परिचय

भारत का विदेश व्यापार यानी निर्यात और आयात विदेश व्यापार (विकास और विनियमन) अधिनियम 1992 की धारा 5 द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए केन्द्र सरकार द्वारा अधिसूचित नीति विदेश व्यापार नीति द्वारा विनियमित हैं।वर्तमान में विदेश व्यापार नीति 2015-20, 01 अप्रैल, 2015 से लागू है। विदेश व्यापार (विकास और विनियमन) अधिनियम के अनुसार, निर्यात को भारत के किसी भी सामान को भूमि, समुद्री या हवाई मार्ग से बाहर निकालने और पैसे के उचित लेन-देन के रूप में परिभाषित किया जाता है।

निर्यात प्रारंभ करना

निर्यात अपने आप में एक बहुत ही व्यापक अवधारणा है और निर्यात व्यवसाय शुरू करने से पहले एक निर्यातक को बहुत सारी तैयारी करने की आवश्यकता होती है। निर्यात व्यवसाय शुरू करने के लिए, निम्नलिखित चरणों का पालन किया जा सकता है:      

1) एक संगठन की स्थापना

निर्यात व्यवसाय शुरू करने के लिए, पहले प्रक्रिया के अनुसार एक आकर्षक नाम और लोगो के साथ एक एकल मालिकाना फर्म/ भागीदारी फर्म / कंपनी स्थापित करनीहोगी।

2) बैंक खाता खोलना

विदेशी मुद्रा में सौदा करने के लिए अधिकृत बैंक के साथ एक चालू खाता खोला जाना चाहिए।

3) स्थायी खाता संख्या (पैन) प्राप्त करना

आयकर विभाग से प्रत्येक निर्यातक और आयातक को पैन प्राप्त करना आवश्यक है। (पैन कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए यहां क्लिक करें )

4) आयातक-निर्यातक कोड (IEC) संख्या प्राप्त करना

  • विदेश व्यापार नीति के अनुसार, भारत से निर्यात / आयात के लिए आयातक-निर्यातक कोड प्राप्त करना अनिवार्य है। विदेश व्यापार नीति 2015-20 के पैरा 2.05, में आयातक-निर्यातक कोडप्राप्त करने के लिए अपनाई जाने वाली प्रक्रिया निर्धारित है, जो पैन आधारित है।
  • एएनएफ 2ए के अनुसार, आयातक-निर्यातक कोड के लिए www.dgft.gov.in पर  नेट बैंकिंग या क्रेडिट / डेबिट कार्ड के माध्यम से 500 / - के भुगतान करके आवेदन पत्र में उल्लिखित आवश्यक दस्तावेजों के साथ ऑनलाइन आवेदन किया जाता है। (अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

5) पंजीकरण सह सदस्यता प्रमाण पत्र (RCMC)

विदेश व्यापार नीति 2015-20 के तहत आयात / निर्यात या किसी अन्य लाभ या रियायत के लिए प्राधिकरण का लाभ उठाने के लिए, साथ ही सेवाओं / मार्गदर्शन का लाभ उठाने के लिए, निर्यातकों को संबंधित निर्यात संवर्धन परिषदों / एफआईईओ/ कमोडिटी बोर्ड / प्राधिकरणों द्वारा दिए गए पंजीकरण-सह-सदस्‍यता प्रमाण पत्र प्राप्त करना आवश्यक है।

6) उत्पाद का चयन

निषिद्ध / प्रतिबंधित सूची में प्रदर्शित होने वाली कुछ वस्तुओं को छोड़कर सभी आइटम स्वतंत्र रूप से निर्यात योग्य हैं।

भारत से विभिन्न उत्पादों के निर्यात के रुझानों का अध्ययन करने के बाद निर्यात किए जाने वाले उत्पाद का उचित चयन किया जा सकता है।

7) बाजारों का चयन

बाजार के आकार, प्रतियोगिता, गुणवत्ता की अपेक्षाओं,भुगतान की शर्तों आदि को कवर करने के बाद एक विदेशी बाजार का चयन किया जाना चाहिए। विदेश व्यापार नीति के तहत कुछ देशों के लिए उपलब्ध निर्यात लाभों के आधार पर निर्यातक बाज़ार का मूल्यांकन भी कर सकते हैं। एक्सपोर्ट प्रमोशन एजेंसियां, विदेश में भारतीय मिशन, सहकर्मी, दोस्त और रिश्तेदार जानकारी जुटाने में मददगार हो सकते हैं।

8) खरीदार ढूंढना

व्यापार मेलों में भाग लेना, खरीदार विक्रेता सम्‍मेलन, प्रदर्शनियां, बी 2 बी पोर्टल, वेब ब्राउजिंग खरीदारों को खोजने के लिए प्रभावी उपकरण हैं। एक्सपोर्ट प्रमोशन परिषद, विदेशों में भारतीय मिशन, वाणिज्य के विदेशी कक्ष भी मददगार हो सकते हैं। उत्पाद सूची, मूल्य, भुगतान की शर्तों और अन्य संबंधित जानकारी के साथ बहुभाषी वेबसाइट बनाना भी सहायक होगा।  

9) नमूना लेना

विदेशी खरीदारों की मांगों के अनुसार अनुकूलित नमूने प्रदान करना निर्यात आदेश प्राप्त करने में मदद करता है। विदेश व्यापार नीति 2015-2020 के अनुसार, बिना किसी सीमा के स्वतंत्र रूप से निर्यात योग्य वस्तुओं के बोनाफाइड व्यापार और तकनीकी नमूनों के निर्यात की अनुमति होगी।

10) मूल्य / लागत निर्धारण

अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा को देखते हुए खरीदारों का ध्यान आकर्षित करने और बिक्री को बढ़ावा देने के लिए उत्पाद मूल्य निर्धारण महत्वपूर्ण है। मूल्‍य निर्धारण बिक्री की शर्तों के आधार पर निर्यात आय के नमूने से लेकर बोर्ड (एफओबी), लागत, बीमा और माल ढुलाई (सीआईएफ), लागत और माल (सी एंड एफ), आदि के आधार पर सभी खर्चों को ध्यान में रखते हुए किया जाना चाहिए। निर्यात लागत निर्धारित करने का लक्ष्य अधिकतम लाभ मार्जिन के साथ प्रतिस्पर्धी मूल्य पर अधिकतम मात्रा में माल बेचना होना चाहिए। प्रत्येक निर्यात उत्पाद के लिए निर्यात लागत पत्रक तैयार करना उचित है। 

11) खरीदारों के साथ बातचीत

उत्पाद में खरीदार की रुचि, भविष्य की संभावनाओं और व्यवसाय में निरंतरता के बाद, उचित भत्ता / मूल्य में छूट देने की मांग पर विचार किया जा सकता है।  

12) एक्‍सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन के माध्यम से जोखिम को कवर करना

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में खरीदार / देश के दिवालिया होने के कारण भुगतान जोखिम रहता है। एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन लिमिटेड की एक उचित नीति द्वारा इन जोखिमों को कवर किया जा सकता है। जहां खरीदार अग्रिम भुगतान किए बिना या क्रेडिट के शुरुआती पत्र के बिना ऑर्डर दे रहा है, वहॉं गैर-भुगतान के जोखिम से बचाने के लिए ईसीजीसी से विदेशी खरीदारपर क्रेडिट सीमा की खरीद करना उचित है। (ईसीजीसी के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें ) 

निर्यात आदेश पर कार्यवाही करना

i.  आदेश की पुष्टि

निर्यात ऑर्डर प्राप्त करने पर, आइटम, विनिर्देश, भुगतानकी स्थिति, पैकेजिंग, वितरण अनुसूची आदि के संबंध में सावधानीपूर्वक जांच की जानी चाहिए और फिर आदेश की पुष्टि की जानी चाहिए। तदनुसार, निर्यातक विदेशी खरीदार के साथ एक औपचारिक अनुबंध कर सकता है।

ii. माल की खरीद

निर्यात आदेश की पुष्टि के बाद, निर्यात के लिए आवश्यक वस्तुओं की खरीद / निर्माण के लिए तत्काल कदम उठाए जा सकते हैं। यह याद रखना चाहिए कि आदेश बहुत प्रयासों और प्रतिस्पर्धा से प्राप्त किया गया है, इसलिए खरीद पूरी तरह से खरीदार की अपेक्षाओं के अनुसार ही होनी चाहिए।

iii. गुणवत्ता नियंत्रण

आज के प्रतिस्पर्धी युग में, निर्यात वस्तुओं के बारे में सख्त गुणवत्ता के प्रति जागरूक होना आवश्‍यक है।खाद्य और कृषि, मत्स्य, कुछ रसायन आदि,जैसे कुछ उत्‍पादोंका शिपमेंट से पूर्व निरीक्षण अनिवार्य है।विदेशी खरीदार भी अपने स्वयं के मानक/ विशिष्टताएं निर्धारित कर सकते हैं और अपनी नामित एजेंसियों द्वारा निरीक्षण पर जोर दे सकते हैं। निर्यात कारोबार को बनाए रखने के लिए उच्च गुणवत्ता बनाए रखना आवश्यक है।

iv. वित्त

निर्यातक निर्यात लेन-देन को पूरा करने के लिए रियायती ब्याज दरों पर वाणिज्यिक बैंकों से प्री-शिपमेंट और पोस्ट-शिपमेंट वित्त प्राप्त करने के लिए पात्र हैं। नए निर्यातकों को एलसी के लदान या कन्‍फर्मड आदेश के एवज में लदान-पूर्व  चरण में 180 दिनों के लिए पैकिंग क्रेडिट अग्रिम दी जाती है ताकि कच्चे माल / तैयार माल, श्रम खर्च, पैकिंग, परिवहन, आदि की खरीद के लिए पूंजी आवश्यकताओं वाले काम पूरा कर सकें। सामान्‍यत: बैंक शेष राशि को मार्जिन के रूप में रखते हुए मूल्य का75% से 90% अग्रिम देते हैं। बैंक मोल-तोल, खरीदे या छूट प्राप्‍त निर्यात बिलों की आय से पैकिंग क्रेडिट एडवांस को समायोजित करते हैं।

पोस्ट शिपमेंट वित्त सामान्य रूप से निर्यातकों को चालान मूल्य का 90% सामान्य पारगमन अवधि के लिए मुद्दती निर्यात बिलों के मामलों में काल्‍पनिक नियत तारीख तक के लिए दिया जाता है। शिपमेंट के बाद की पोस्ट-शिपमेंट अग्रिमों की अधिकतम अवधि 180 दिनों की है। बैंकों द्वारा दिए गए अग्रिमों को निर्यात बिलों की बिक्री आय में से समायोजित किया जाता है। यदि निर्यात बिल का भुगतान नियत तारीख के बादभी नहीं किया जाता है, तो बैंक ब्याज की वाणिज्यिक उधार दरों पर वसूली करेंगे।

v. लेबलिंग , पैकेजिंग, पैकिंग और अंकन

निर्यात के सामान को खरीदार के विशिष्ट निर्देशों के अनुसार लेबल, पैकेज और पैक किया जाना चाहिए। अच्छी पैकेजिंग सामान को भलीभांति और आकर्षक तरीके से वितरित और प्रस्तुत करती है। इसी तरह, अच्छी पैकिंग आसान रखरखाव, अधिकतम लोडिंग, शिपिंग लागत को कम करने और कार्गो की सुरक्षा और मानक सुनिश्चित करने में मदद करती है। पते, पैकेज संख्या, बंदरगाह और गंतव्य स्‍थल, वजन, हैंडलिंग निर्देश आदि जैसे अंकन,भेजे गए माल की पहचान और जानकारी प्रदान करता है।

vi. बीमा

समुद्री बीमा पॉलिसी में माल के संक्रमण के दौरान होने वाले नुकसान या क्षति के जोखिमों को कवर किया जाता है। आमतौर पर सीआईएफ अनुबंध में निर्यातक बीमा की व्यवस्था करते हैं जबकि सीएंडएफ और एफओबी अनुबंध के लिए खरीदार बीमा पॉलिसी प्राप्त करते हैं।

vii. वितरण

यह निर्यात की महत्वपूर्ण विशेषता है और निर्यातक को वितरण अनुसूची का पालन करना चाहिए। तेज और कुशल डिलीवरी की योजना ऐसी होनी चाहिए कि रास्ते में कोई बाधा न आए।

viii. सीमा शुल्क प्रक्रिया

निर्यात सामान की क्‍लीयरिंग और कोई भी ड्राबैक राशि जमा करने के लिए नामित बैंक में एक चालू खाता खोलने और प्रणाली पर उसका पंजीकरण करने के लिए शिपिंग बिल दाखिल करने से पहले सीमा शुल्क से पैन आधारित व्यवसाय पहचान संख्या (बीआईएन) प्राप्त करना आवश्यक है।

गैर-ईडीआई के मामले में, शिपिंग बिल और निर्यात के बिल (प्रपत्र) विनियम, 1991 में निर्धारित किये गए अनुसार,शिपिंग बिल या निर्यात के बिल को प्रारूप में भरना आवश्यक है। किसी निर्यातक को शुल्क मुक्त वस्तुओं के निर्यात,शुल्‍कयोग्‍य वस्‍तुओंके निर्यात और ड्राबैक के तहत निर्यात के लिए शिपिंग बिल के अलग-अलग फार्म भरने होते हैं।

ईडीआई सिस्टम के तहत, सेवा केंद्रों के माध्यम से निर्धारित प्रारूप में घोषणाएं दायर की जानी हैं।निर्यातक / सीएचए द्वारा डाटा के सत्यापन के लिए एक चेकलिस्ट तैयार की जाती है। सत्यापन के बाद, डाटा को सेवा केंद्र ऑपरेटर द्वारा सिस्टम को सबमिट किया जाता है और सिस्टम एक शिपिंग बिल नंबर बनाता है, जो मुद्रित चेकलिस्ट पर एंडोर्स किया जाता है और निर्यातक / सीएचए में वापस आ जाता है। ज्यादातर मामलों में, शिपिंग बिल को सिस्टम द्वारा किसी भी मानवीय हस्तक्षेप के बिना निर्यातकों द्वारा की गई घोषणाओं के आधार पर संशोधित किया जाता है। जहां अपराइज़र डॉक (एक्सपोर्ट) नमूने निकालकर परीक्षण के आदेश देता है, वहीं सीमा शुल्क अधिकारी खेप में से दो नमूने निकालते हैं और आईसीईएस / ई प्रणाली में परीक्षण एजेंसी के विवरण के साथ विवरण दर्ज कर सकते हैं।

यदि दस्तावेज अभी तक सिस्टम में जमा नहीं किए गए हैं और शिपिंग बिल नंबर जनरेटनहीं हुआ है,तो घोषणा पत्र दाखिल करने के बाद जनरेटचेक सूची में सेवा केंद्र में कोई भी सुधार / संशोधन किए जा सकते हैं।  जहां सुधार बिल शिपिंग नंबर जनरेटहोने के बाद या माल को निर्यात डॉक में लाने के बाद सुधार किए जाने की आवश्यकता होती है, उन स्थितियों में, निम्नलिखित तरीकों से संशोधन किए जाते हैं।

1.   माल को अभी तक ‘निर्यात अनुमति’नहीं दी गई है,तो सहायक आयुक्त (निर्यात) द्वारा संशोधन कीअनुमति दी जा सकती है।

2.  जहां "निर्यात अनुमति" पहले ही दी जा चुकी है, तो निर्यात अनुभाग के प्रभारी अतिरिक्त / संयुक्त आयुक्त, कस्टम हाउस द्वारा ही संशोधन की अनुमति दी जा सकती है।

दोनों मामलों में, संशोधनों की अनुमति दिए जाने के बाद, सहायक आयुक्त / उपायुक्त (निर्यात) अतिरिक्त / संयुक्त आयुक्त की ओर से प्रणाली में संशोधनों को मंजूरी दे सकते हैं। जहाँ शिपिंग बिल का प्रिंट आउट पहले ही जेनरेट किया जा चुका है, तो सिस्टम में संशोधन को मंजूरी देने से पहले निर्यातक शिपिंग बिल की सभी प्रतियां रद्द करने के लिए डॉक मूल्यांक में सरेंडर कर सकता है।

ix. सीमा शुल्क हाउस एजेंट

निर्यातक सीमा शुल्क आयुक्त द्वारा लाइसेंस प्राप्त कस्टम हाउस एजेंटों की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। वे पेशेवर हैं और सीमा शुल्क से कार्गो की निकासी से जुड़े काम में सुविधा प्रदान करते हैं।

x. प्रलेखन

विदेश व्‍यापार नीति2015-2020 में आयात और निर्यात के लिए निम्नलिखित अनिवार्य दस्तावेजों का वर्णन है।

·         बिल ऑफ लैडिंग / एयरवे बिल

·         वाणिज्यिक चालान सह पैकिंग सूची

·         शिपिंग बिल / निर्यात बिल / एंट्री बिल (आयात के लिए)

(मामले के अनुसार प्रमाण पत्र, निरीक्षण प्रमाण पत्र आदि जैसे अन्य मूल दस्तावेज आवश्यक हो सकते हैं।)

xi. दस्तावेजों को बैंक में जमा करना

शिपमेंट के बाद, भुगतान की व्यवस्था के लिए विदेशी बैंक को आगे प्रेषण के लिए दस्तावेजों को 21 दिनों के भीतर बैंक में प्रस्तुत करना अनिवार्य है। एल / सी के तहत निम्नलिखित दस्तावेजों के साथ, संग्रह / खरीद / बातचीत के लिए दस्तावेज तैयार किए जाने चाहिए

-      विनिमय का बिल

-      लेटर ऑफ क्रेडिट (यदि शिपमेंट एल / सी के तहत है)

-      चालान

-      पैकिंग सूची

-      वायुमार्ग बिल / लदान का बिल

-      विदेशी मुद्रा के तहत घोषणा

-      सर्टिफिकेट ऑफ ओरिजिन / जीएसपी

-      निरीक्षण प्रमाण पत्र, जहां भी आवश्यक हो

-      एल / सी में या खरीदार या वैधानिक रूप से आवश्यक कोई अन्य दस्तावेज।

xii. निर्यात की आय को जमा करना

विदेश व्‍यापार नीति2015-2020 के अनुसार, सभी निर्यात अनुबंधों और चालानों को या तो भारतीय रुपये की स्वतंत्र रूप से परिवर्तनीय मुद्रा में स्वीकार किया जाएगा, लेकिन ईरान को किए जाने वाले निर्यात को छोड़कर निर्यात आय को स्वतंत्र रूप से परिवर्तनीय मुद्रा में जमा किया जाना चाहिए।

निर्यात आय को9 महीने में जमा होना चाहिए।

 

 

 

 


निर्यातकों के लिए
अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
आई.टी.सी एच.एस कोड को खोजें
एच.एस. कोड
 (केवल 2 से 6 अंक टाइप करें)
 या
उत्पाद
         
आगामी कार्यक्रम
नवीनतम समाचार
महत्वपूर्ण लिंक