प्रतिक्रिया / सहायता / प्रश्न

ईमेल:
संदेश:
कैप्चाRF
Processing...

लॉग इन

कैप्चाRF
पासवर्ड भूल गए?उपयोगकर्ता नाम बनाएँ

सदस्यता लें!

बैंकिंग विनियमन शासी निर्यात

बैंकिंग विनियमन शासी निर्यात

भारत से माल और सेवाओं का निर्यात विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 (1999 की 42) की धारा 7 की उप-धारा (1) और उप-धारा (3) के खंड (क) के साथ पठित अधिसूचना संख्या जीएसआर381 (ई) दिनांक 3 मई, 2000अर्थात विदेशी मुद्रा प्रबंधन (चालू खाता लेनदेन) नियम, 2000,के साथ ही पठित फेमा अधिसूचना संख्या 22 (आर) / 2015-आरबी दिनांक 12 जनवरी, 2016 के द्वारा शासित होता है। नियामक ढांचे में होने वाले बदलावों को शामिल करने के लिए इन विनियमों में समय-समय पर संशोधन किया जाता है और संशोधन अधिसूचनाओं के माध्यम से प्रकाशित किया जाता है।

विनियमों के संदर्भ में, भारतीय रिज़र्व बैंक भी विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा), 1999 की धारा 11 के तहत प्राधिकृत व्यक्तियों को दिशा-निर्देश जारी करता है। इन दिशानिर्देशों में इस बात की रूपरेखा तय की गई है कि बनाये गए विनियमों को कार्यान्‍वित करने के लिए प्राधिकृत व्‍यक्‍तियों द्वारा अपने ग्राहकों / घटकों के साथ विदेशी मुद्रा व्यापार का संचालन कैसे किया जाता है।

भारत से वस्तुओं और सेवाओं के निर्यात पर जारी निर्देशों को इस मास्टर दिशानिर्देश में संकलित किया गया है। अंतर्निहित परिपत्र/अधिसूचनाओं की सूची जो इस मास्टर दिशानिर्देश का आधार है, परिशिष्ट में प्रस्तुत की गई है। रिपोर्टिंग निर्देश रिपोर्टिंग संबंधी मास्टर दिशानिर्देश में पाया जा सकता है (मास्टर दिशा निर्देश संख्या 18 दिनांक 01 जनवरी, 2016)।

यह उल्‍लेखनीय है कि, आवश्यक होने पर, रिज़र्व बैंक विनियमों में किसी भी बदलाव के संबंध में प्राधिकृत व्यक्तियों को एपी (डीआईआर सीरीज़) परिपत्रों के माध्यम से दिशा-निर्देश जारी करेगा, या बताएगा कि अपने ग्राहकों/घटकों के साथ अधिकृत लेन-देन किस तरीके से किया जाना है। इसके साथ ही जारी किए गए मास्टर डायरेक्शन में समुचित संशोधन किया जाएगा।

1. माल / सॉफ्टवेयर / सेवाओं के निर्यात की आय जमा करना और निकालना

यह निर्यातक के लिए अनिवार्य है कि माल / सॉफ्टवेयर / सेवाओं का पूरा मूल्य निम्‍नलिखित तरीके से निर्यात की तारीख से एक निश्चित अवधि के भीतर भारत में जमा कराएगा और निकालेगा:

  • भारत सरकार के परामर्श से यह निर्णय लिया गया है कि निर्यात आय की वसूली और निकासी अवधि विशेष आर्थिक क्षेत्रों (एसईजेड), स्टेटस होल्डर निर्यातकों, निर्यात उन्मुख में इकाइयां (ईओयू), इलेक्ट्रॉनिक हार्डवेयर टेक्नोलॉजी पार्क (ईएचटीपी), सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क (एसटीपी) और बायो-टेक्नोलॉजी पार्क (बीटीपी) में इकाइयों सहित सभी निर्यातकों के लिए निर्यात की तारीख से आगामी सूचना तक नौ महीने होगी।
  • भारत के बाहर स्थापित किसी गोदाम को निर्यात किए गए सामानों के लिए, माल के लदान की तारीख से पंद्रह महीनों के भीतर आय जमा करनी होगी।

2. रसीद और भुगतान का प्रबंध

(i) निर्यात किए गए माल का पूर्ण निर्यात मूल्य का प्रतिनिधित्व करने वाली राशि, अधिसूचना संख्या FEMA.14 (R)/2016-RB दिनांक 02 मई, 2016 ) के माध्‍यम से निर्दिष्‍ट विदेशी मुद्रा प्रबंधन (रसीद और भुगतान की व्यवस्था) विनियम, 2016 में उल्‍लिखित तरीके से AD बैंक के माध्यम से प्राप्त की जाएगी।

(ii) जब विदेशी खरीदारों को अपनी यात्राओं के दौरान बेचे जाने वाले सामानों का भुगतान इस प्रकार प्राप्त होता है, तो EDF (डुप्लिकेट) प्राधिकृतडीलर–Iबैंक द्वारा अपने नोस्ट्रो खाते में धन प्राप्त करने पर जारी किया जाना चाहिए या यदि संबंधित प्राधिकृत डीलर- I बैंक क्रेडिट कार्ड सर्विसिंग बैंक नहीं है, तो भारत में क्रेडिट कार्ड सर्विसिंग बैंक से निर्यातक द्वारा इस आशय का प्रमाण पत्र प्रस्‍तुत करने पर कि उसे विदेशी मुद्रा में बराबर राशि प्राप्त हुई है, प्राधिकृत डीलर-I बैंकों को भी भुगतान प्राप्त हो सकता है भारत से बाहर किए गए निर्यात को एक आयातक के क्रेडिट कार्ड से डेबिट किया जाता है, जहां बैंक / संगठन द्वारा जारी कार्ड से प्रतिपूर्ति विदेशी मुद्रा में प्राप्त की जाएगी।

(iii) ऑनलाइन भुगतान गेटवे सेवा प्रदाताओं (OPGSPs) के माध्यम से निर्यात से संबंधित प्राप्तियों पर कार्यवाही।

प्राधिकृत डीलर श्रेणी- I (प्राधिकृतडीलर- I) बैंकों को निम्नलिखित शर्तों के अधीन ऑनलाइन भुगतान गेटवे सेवा प्रदाता (OPGSPs) के साथ स्थायी व्यवस्था करके निर्यात संबंधी विप्रेषणों के प्रत्यावर्तन की सुविधा प्रदान करने की अनुमति दी गई है -

  • इस सुविधा की पेशकश करने वाले प्राधिकृतडीलर- I बैंक OPGSP के साथ ड्यू डिलिजेंस करेंगे।
  • यह सुविधा केवल यूएसडी 10,000 (यूएस डॉलर दस हजार) से अधिक मूल्य के माल और सेवाओं के निर्यात के लिए उपलब्ध होगी।
  • ऐसी सुविधाएँ प्रदान करने वाले प्राधिकृतडीलर- I बैंक ऐसी व्यवस्थाओं के माध्यम से निर्यात किए गए निर्यात संबंधी भुगतान की प्राप्ति के लिए NOSTRO संग्रह खाता खोलेंगे। जहां इस सुविधा का लाभ उठाने वाले निर्यातकों को ओपीजीएसपी के साथ खाता खोलने की आवश्यकता होगी, यह सुनिश्चित किया जाएगा कि ऐसे खातों में कोई धनराशि न रखी जाए और सभी रसीदें स्वचालित रूप से स्‍वीप की जाएं और प्राधिकृतडीलर- I बैंक  द्वारा खोले गए NOSTRO संग्रह में जमा हो जाएं।
  • प्रत्येक OPGSP के लिए एक अलग NOSTRO संग्रह खाता रखा जा सकता है या बैंक को प्रत्येक OPGSP के NOSTRO खाते में लेन-देन को सीमांकित करने में सक्षम होना चाहिए।
  • इस व्यवस्था के तहत, NOSTRO संग्रह खाते के लिए अनुमेय डेबिट धन के प्रत्यावर्तन के लिए हैं जो निर्यातकों के खाते में क्रेडिट के लिए भारत को निर्यात आय का प्रतिनिधित्व करते हैं, पूर्व निर्धारित दरों / आवृत्ति / व्यवस्था के अनुसार OPGSP को शुल्क / कमीशन का भुगतान; और यदि निर्यातक बिक्री अनुबंध के तहत अपने दायित्वों का निर्वहन करने में विफल रहा है तो आयातक को वापस चार्ज करें।
  • NOSTROके संग्रह खाते में रखी गई शेष राशि को और आयातक से पुष्टिकरण प्राप्त होने पर, और किसी भी स्थिति में, NOSTRO संग्रह खाते में तुरंत या क्रेडिट की तारीख से अधिकतम सात दिनों बादभारत में किसी बैंक में संबंधित निर्यातक के खाते में भेजा जाएगा।
  • प्राधिकृत डीलर श्रेणी- I बैंक लेन-देन के प्रतिबन्ध के अनुसार स्वयं तसल्‍ली करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि ऑनलाइन भुगतान गेटवे में रिज़र्व बैंक को सूचित उद्देश्य कोड सही हैं।
  • प्राधिकृत डीलर श्रेणी- I बैंक इस व्यवस्था के अंतर्गत किसी भी लेन-देन से संबंधित सभी प्रासंगिक जानकारी रिज़र्व बैंक को, जब ऐसा करने की सलाह दी जाती है, प्रस्तुत करेंगे।
  • प्रत्येक NOSTRO संग्रह खाते का तिमाही आधार पर मिलान और ऑडिट होनी चाहिए।
  • भारत में निर्यातकों की भुगतान संबंधी सभी शिकायतों का समाधान संबंधित ओपीजीएसपी के जिम्मे रहेगा।
  • प्राधिकृतडीलरश्रेणी- I बैंक ऐसी व्यवस्था करने के इच्छुक हैं, जिन्हें विदेशी मुद्रा विभाग, केंद्रीय कार्यालय, भारतीय रिज़र्व बैंक, मुंबई में प्रवेश करते समय ऐसी प्रत्येक व्यवस्था का विवरण देना चाहिए।
  • 4कोई स्टार्ट-अप अपनी विदेशी सहायक कंपनियों की प्राप्ति राशि को जमा कर सकता है और उन्हें ऑनलाइन पेमेंट गेटवे सर्विस प्रोवाइडर्स (OPGSPs) के माध्यम से पुनर्प्राप्त कर सकता है।

(iv) एसीयू तंत्र के तहत निपटान प्रणाली

क) लेनदेन / कारोबार को सुविधाजनक बनाने के लिए, 01 जनवरी, 2009 से प्रभावी, एशियन क्लियरिंग यूनियन में भाग लेने वालों बैंको के पास एसीयू डॉलर में या एसीयू यूरो में अपने लेनदेन को निपटाने का विकल्प होगा। तदनुसार, एशियाई मौद्रिक इकाई (एएमयू) को 'एसीयू डॉलर' और 'एसीयू यूरो' के रूप में दर्शाया जाएगा जो क्रमशः एक अमेरिकी डॉलर और एक यूरो के मूल्य के बराबर होगा।
 
ख) इसके अलावा, प्राधिकृतडीलर- I बैंकों को अन्य सहभागी देशों में अपने-अपने बैंकों के साथ ACU डॉलर और ACU यूरो खाते खोलने और बनाए रखने की अनुमति है। सभी योग्य भुगतानों को संबंधित बैंकों द्वारा इन खातों के माध्यम से निपटाया जाना अपेक्षित है।
 
ग) एसीयू तंत्र से छूट- भारत-म्यांमार व्यापार - म्यांमार के साथ व्यापारिक लेनदेन का भुगतान एसीयू तंत्र के अलावा किसी भी स्वतंत्र रूप से परिवर्तनीय मुद्रा में जा सकता है।
 
घ) ईरान से/के साथ आयात/प्राप्तियों के भुगतान में आयातकों / निर्यातकों  के सामने आ रही कठिनाइयों के मद्देनजर, यह निर्णय लिया गया है कि 27 दिसंबर, 2010 से ईरान के साथ व्यापार लेनदेन सहित सभी पात्र चालू खाता लेनदेन अगली सूचना तक ACU तंत्र के बाहर किसी भी अनुमय मुद्रा में निपटाए जाने चाहिए।
 
ड़) जून, 2015 में ACU बोर्ड की 44 वीं बैठक के दौरान ACU के सदस्यों के बीच हुई सहमतिके मद्देनज़र, निर्णय लिया गया है कि ACU देशों के बीच माल और सेवाओं के निर्यात और आयात दोनों के भुगतान को निपटाने के लिएACU सदस्य देशों अर्थात , ACU डॉलर और ACU यूरो दोनों के वाणिज्यिक बैंकों के नोस्ट्रो खातों के उपयोग की अनुमति दी जाएगी।

(v) निर्यात / आयात लेनदेन के लिए तृतीय पक्ष भुगतान

विकासशील अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रथाओं को ध्यान में रखते हुएनिर्णय लिया गया है किनिर्यात / आयात लेनदेन के लिए निम्‍नलिखित शर्तों पर तीसरे पक्ष के भुगतान की अनुमति होगी:

क) एक त्रिपक्षीय समझौते के साथ अपरिवर्तनीय आदेश होना चाहिए। तथापि, जिन मामलों में परिस्थितियों वश तीसरे पक्ष कोभुगतान किए जाने के दस्तावेजी साक्ष्य / तीसरे पक्ष के नाम अपरिवर्तनीय आदेश/ चालान में उल्लिखित हो,वहॉं अपरिवर्तनीय आदेश आवश्‍यक नहीं है बशर्ते कि:

  • प्राधिकृतडीलरबैंक को लेनदेन और इनवॉइस / एफआईआरसी जैसेनिर्यात दस्तावेजों की प्रमाणिकता से संतुष्ट हों।
  • प्राधिकृतडीलरबैंक को इस तरह के लेनदेन को निबटाते समय एफटीएफके बयानों पर विचार करना चाहिए।
 
ख) तीसरे पक्ष को भुगतान केवल बैंकिंग चैनल के माध्यम से किया जाना चाहिए;
 
ग) निर्यातक को निर्यात घोषणा फॉर्म में तीसरे पक्ष के विप्रेषण (भुगतान) की घोषणा करनी चाहिए और ईडीएफ में नामित तीसरे पक्ष से निर्यात आय को भूनाना और प्रत्यावर्तन करना आयतकर्ता की जिम्‍मेदारी होगी;
 
घ) ईडीएफ में नामित तीसरे पक्ष से निर्यात आय को भूनाना और प्रत्यावर्तन करना निर्यातकर्ता की जिम्‍मेदारी होगी;
 
ड़) एक्सओएस में यदि कोई बकाया है, तो उसे निर्यातक के नाम के सामने दर्शाया जाता रहेगा। तथापि, विदेशी खरीदार के नाम के बजाय जहां से आय प्राप्‍त होनी है, घोषित तीसरे पक्ष का नाम एक्सओएस में दर्शाया जाना चाहिए;
 
च) प्रतिबंधित कवर देशों के समूह II (जैसे सूडान, सोमालिया, आदि) में किसी देश के लिए किए जा रहे शिपमेंट के मामले में, उसका भुगतान किसी ओपन कवर कंट्री से प्राप्त किया जा सकता है; तथा
 
छ) आयातों के मामले में, चालान में यह उल्‍लेख होना चाहिए कि संबंधित भुगतान (नामित) तीसरे पक्ष को किया जाना है, बिल ऑफ एंट्री में शिपर के नाम का उल्लेख करना चाहिए, साथ ही यह उल्‍लेख भी हो कि संबंधित भुगतान (नामित) तीसरे पक्ष के लिए किया जाना चाहिए और आयातकर्ता को आयात से संबंधित निर्देशों का अनुपालन करना चाहिए, जिसमें सामानों के आयात के लिए किए जा रहे अग्रिम भुगतान संबंधी निर्देश शामिल हैं।
 
(vi) प्रत्यक्ष विनिमय दर उपलब्‍ध न होने वाली मुद्राओं में निर्यात लेनदेन का निपटान
 
प्रक्रिया को और अधिक उदार बनाने और निर्यात लेनदेन के निपटान की सुविधा के लिए, जहां चालान स्वतंत्र रूप से परिवर्तनीय मुद्रा में है और निपटान लाभार्थी की मुद्रा में होता है, जो परिवर्तनीय तो है, लेकिन प्रत्यक्ष विनिमय दर नहीं है, यह तय किया गया है किप्राधिकृतडीलरश्रेणी-Iबैंक इस तरह के निर्यात लेनदेन के निपटान की अनुमति निम्नानुसार शर्तों के अधीन दे सकते हैं (एसीयू तंत्र के माध्यम से उन लोगों को छोड़कर):
  • निर्यातकप्राधिकृतडीलरबैंक का ग्राहक होगा       
  • हस्ताक्षरित अनुबंध / चालान स्वतंत्र रूप से परिवर्तनीय मुद्रा में है,       
  • लाभार्थी पूर्ण एवं अंतिम भुगतान के रूप में (स्वतंत्र रूप से परिवर्तनीय) मुद्रा के बजाय लाभार्थी की मुद्रा में चालान / अनुबंध लेटर ऑफ क्रेडिट की मूल प्राप्त करने का इच्‍छुक है;
  • प्राधिकृतडीलरबैंक लेनदेन की प्रमाणिकता से संतुष्ट है;और       
  • प्राधिकृतडीलरबैंक के निर्यातक /आयातक के प्रतिपक्षी उच्च जोखिम और गैर-सहकारी न्यायालयों संबंधी अद्यतितएफएटएफसार्वजनिक वक्तव्य में उल्‍लिखित किसी देश या अधिकार क्षेत्र से नहीं है, जिस पर एफएटीएफ ने काउंटर उपायों की मांग की है।  
 
3) विदेशी मुद्रा खाता विनियम (ईईएफसी अकाउंट)
 
(i) भारत में रहने वाला कोई व्यक्तिविदेशी मुद्रा के विनियमन (प्रबंधन भारत में निवासी व्यक्ति द्वारा विदेशी मुद्रा खाता) विनियम, 2015 दिनांक 21 जनवरी, 2016के 10विनियमन 4 (घ) के संदर्भ में, भारत में किसी एक प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक मेंईईएफसी अकाउंट नामक खाता खोल सकता है जिसे विदेशी मुद्रा विनिमयकर्ता का विदेशी मुद्रा (EEFC) खाता कहा जाता है।
 
(ii) निवासी व्यक्तियों को पूर्व या उत्तरजीवी आधार पर उनके ईईएफसी बैंक खातों में संयुक्त धारक (ओं) के रूप में कंपनी अधिनियम 2013 में परिभाषित निवासी करीबी रिश्तेदार (रों) को शामिल करने की अनुमति है।
 
(iii) यह खाता केवल गैर-ब्याज वाले चालू खाते के रूप में ही रखा जाएगा। ईईएफसी खातों में प्राधिकृतडीलरश्रेणी - Iबैंकों द्वारा रखी गई शेष राशि की सुरक्षा के एवज में, फंड-आधारित या गैर-फंड आधारितक्रेडिट सुविधा की अनुमति नहीं होगी।
 
(iv) विदेशी मुद्रा अर्जक की सभी श्रेणियों को विदेशी मुद्रा अर्जन का 100% अपने ईईएफसी खाते में इस शर्त के साथ रखने की अनुमति होगी कि:
  • कैलेंडर माह के दौरान खाते में जमा होने वाले कुल योगों को स्वीकृत उद्देश्यों या अग्रेषित प्रतिबद्धताओं के लिए शेष राशि के उपयोग के लिए समायोजन के बाद,आगामी कैलेंडर माह के अंतिम दिन या उससे पहले रूपयों में परिवर्तित किया जाना चाहिए।
  • ईईएफसी योजना की सुविधा का उद्देश्‍य विदेशी मुद्रा लेनदेन करते समय विनिमय मुद्रा अर्जक को रूपांतरण / लेनदेन की लागत बचाने में बनाना है। इस सुविधा का उद्देश्‍य विनिमय अर्जक को विदेशी मुद्रा में परिसंपत्तियों को बनाए रखने में सक्षम बनाना नहीं है, क्योंकि भारत अभी भी पूंजी खाते पर पूरी तरह से परिवर्तनीय नहीं है।
(v) पात्र क्रेडिट राशि निम्‍नलिखित का प्रतिनिधित्व करती है -
  • सामान्य बैंकिंग चैनल के माध्यम से प्राप्त आंतरिक प्रेषण, रिजर्व बैंक को दी गई किसी भी वचनबद्धता के अनुसार प्रेषण के अलावा प्राप्त हुआ हो या जो भारत के बाहर से प्राप्त विदेशी मुद्रा ऋण या निवेश का प्रतिनिधित्व करता है या खाताधारक को विशिष्ट दायित्वों को पूरा करने के लिए प्राप्त हुआ हो। 
  • किसी समान ऐसी यूनिट या अंतरदेशीय प्रशुल्‍क क्षेत्र की किसी यूनिट को माल भेजने के लिए 100 प्रतिशत निर्यातोन्मुखी यूनिट या निर्यात प्रसंस्करण क्षेत्र, सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्क या इलेक्ट्रॉनिक हार्डवेयर प्रौद्योगिकी पार्क में किसी यूनिट से प्राप्‍त विदेशी मुद्रा भुगतान और साथ ही विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) में किसी यूनिट को विदेशी मुद्रा में प्राप्‍त भुगतान;
(vi) प्राधिकृतडीलरश्रेणी-Iबैंक अपने निर्यातक घटकों को समय-समय पर संशोधित अधिसूचना संख्या FEMA 3/2000-RB 2000 के प्रावधानों का अनुपालन करने की शर्त पर अपने EEFC शेष से विदेशी आयातकों को बिना अधिकतम सीमा के व्यापार से संबंधित ऋण/अग्रिम प्रदान करने की अनुमति दे सकते हैं।
 
(vii) प्राधिकृतडीलरश्रेणी-Iबैंक निर्यातकों को पैकिंग क्रेडिट अग्रिमों को अपने ईईएफसी खाते में शेष राशि से चुकाने की अनुमति दे सकते हैं, चाहे वे रुपये में लाभान्वित हुए हों या विदेशी मुद्रा में और / या रुपये के संसाधनों से कुछ हद तक निर्यात हुआ हो।
 
(viii) जहां निर्यात आय का एक हिस्सा EEFC खाते में जमा किया जाता है, निर्यात घोषणा (डुप्लिकेट) फॉर्म को इस रूप में प्रमाणित किया जा सकता है: "………..मेंEEFC खाते में नामें जमा निर्यात आय राशि की.............प्रतिशत आय”
 
 
4. सड़क, रेल या नदी द्वारा पड़ोसी देशों को निर्यात
 
जहां सड़क, रेल या नदी परिवहन द्वारा पड़ोसी देशों को निर्यात किया जाता है,वहॉंEDF की मूल प्रतियां दाखिल करने के लिए निर्यातकों द्वारा निम्नलिखित प्रक्रिया अपनाई जानी चाहिए :
  • बार्जेस / कंट्री क्राफ्ट / रोड ट्रांसपोर्ट द्वारा निर्यात के मामले में, फॉर्म को सीमा पर सीमा शुल्क स्टेशन, जिसके माध्यम से विदेशी क्षेत्र में जाने से पहले जहाज या वाहन को गुजरना पड़ता है,पर निर्यातक या उसके एजेंट द्वारा प्रस्तुत किया जाना चाहिए। इस प्रयोजन के लिए, निर्यातक या तो जहाज या वाहन के प्रभारी व्यक्ति को फॉर्म देने की व्यवस्था कर सकता है या सीमा शुल्क जमा करने के लिए सीमा पर अपने एजेंट को अग्रेषित कर सकता है।
  • रेल द्वारा निर्यात के संबंध में, सीमा शुल्क की औपचारिकताओं की पूर्ति के लिए कुछ निर्दिष्ट रेलवे स्टेशनों पर सीमा शुल्क कर्मचारियों को तैनात किया गया है। वे इन स्टेशनों पर लोड किए गए सामानों केEDF एकत्र करेंगे ताकि सीमा पर बिना औपचारिकता के सामान सीधे विदेशी देश में जा सके। नामित रेलवे स्टेशनों की सूची रेलवे से प्राप्त की जा सकती है। निर्धारित स्टेशनों के अलावा अन्य स्टेशनों पर लोड किए गए माल के लिए, निर्यातकों को उन सीमा शुल्क स्टेशनों, जहां सीमा शुल्क औपचारिकताएं पूरी होती हैं,पर सीमा शुल्क अधिकारी को ईडीएफ प्रस्तुत करने की व्यवस्था करनी चाहिए।
 
5. म्यांमार के साथ सीमा व्यापार
 
एपी (डीआईआर सीरीज़) सर्कुलर नंबर 17 अक्टूबर 16, 2000 में निहित निर्देशों के अधिरोपण में, भारत-म्यांमार सीमा पर व्यापार की वस्तु विनिमय प्रणाली को बंद कर दिया गया है और इसके स्‍थान पर 1 दिसंबर, 2015 से सामान्य व्यापार लागू हो गया है। तदनुसार,1 दिसंबर, 2015 से भारत-म्यांमार सीमा पर म्यांमार सहित समस्‍त व्यापारिक लेनदेन एशियाई समाशोधन संघ तंत्र के साथ-साथ किसी भी अनुमत मुद्रा में निबटाये जाएंगे।
 
 
6. परियोजना निर्यात और सेवा निर्यात
 
(i) आस्थगित भुगतान शर्तों पर इंजीनियरिंग माल का निर्यात और तैयारशुदापरियोजनाएँऔर विदेश में सिविल निर्माण अनुबंधों के निष्पादन को सामूहिक रूप से 'प्रोजेक्ट एक्सपोर्ट्स' कहा जाता है। इस तरह के अनुबंधों को निष्पादित करने से पहले भारतीय निर्यातकों को वर्क अवार्ड स्‍तर के बाद प्राधिकृतडीलरश्रेणी-Iबैंकों / एक्ज़िम बैंक का अनुमोदन प्राप्त करना आवश्यक है। संशोधित मेमोरेंडम ऑफ इंस्ट्रक्शंस ऑन प्रोजेक्ट एंड सर्विस एक्सपोर्ट्स (PEM-जुलाई2014) में'प्रोजेक्ट एक्सपोर्ट्स' और 'सर्विस एक्सपोर्ट्स' से संबंधित विनियमों का उल्‍लेख किया गया है।
 
(ii) तदनुसार, प्राधिकृतडीलरबैंक / एक्जिम बैंक बिना किसी भी मौद्रिक सीमा के वर्क अवार्ड के बाद की मंजूरी देने पर विचार कर सकते हैं और प्रासंगिक फेमा दिशानिर्देशों / नियमों के भीतर वर्क अवार्ड के बाद अनुमोदन की शर्तों में बदलाव की अनुमति दे सकते हैं। परियोजना और सेवा निर्यातक अपने वाणिज्यिक निर्णय के आधार पर प्राधिकृतडीलरबैंक / एक्जिम बैंक से संपर्क कर सकते हैं। संबंधित प्राधिकृतडीलरबैंक / एक्जिम बैंक को उन परियोजनाओं की निगरानी करनी चाहिए जिनके लिए वर्क अवार्ड के बाद अनुमोदन प्रदान किया गया है।
 
(iii) अपने विदेशी लेनदेन के संचालन में परियोजना और सेवा निर्यातकों को अधिक लचीलापन प्रदान करने के लिए, निम्नानुसार सुविधाएं प्रदान की गई हैं:
 
  • मशीनरी का इंटर-प्रोजेक्ट ट्रांसफर - ट्रांसफर प्रोजेक्ट से मशीनरी के बाजार मूल्य की वसूली (बुक वैल्यू से कम नहीं) को वापस ले लिया गया है। इसके अलावा, निर्यातक मशीनरी / उपकरण का उपयोग किसी भी देश में उनके द्वारा प्राप्‍त किए गए किसी अन्य अनुबंध के लिए कर सकते हैं जिसके लिए प्रायोजक प्राधिकृतडीलर-I बैंक (कों)/एक्जिम बैंक की संतुष्ट करना होगा और रिपोर्टिंग अपेक्षाएं भी पूरी करनी होंगी और इनकी निगरानी प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक/एक्ज़िम बैंक द्वारा की जाएगी।
  • धनराशि का अंतर-परियोजना अंतरण - प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक(ओं)/एक्जिम बैंक निर्यातकों को अंतर-परियोजना हस्तांतरणीयता के साथ उनकी पसंद की मुद्रा / मुद्राओं में एक या एक से अधिक विदेशी मुद्रा खाता खोलने, रखने और संचालित करने की अनुमति दे सकते हैं। किसी भी मुद्रा या देश में धन के अंतर-परियोजना अंतरण की निगरानी प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक (कों)/एक्जिम बैंक द्वारा की जाएगी।
  • अस्थायी नकदी अधिशेषों का उपयोग - प्राधिकृतडीलर श्रेणी - I (कों)/एक्जिम बैंक, द्वारा निगरानी के अधीन परियोजना/सेवा निर्यातक विदेश में अल्पकालिक कागजों में एक वर्ष या उससे कम की परिपक्वता या शेष परिपक्वता वाले मौद्रिक उपकरण, जिनकी रेटिंग मूडी द्वारा कम से कम A -1 / AAA मानक और खराब या Fitch IBCA द्वाराP-1/-AAA या F1/AAA आदि होनी चाहिए,भारत के निवेश से उत्पन्न और भारत में एडीश्रेणी-Iऔर भारत के बाहर की शाखाओं/सहायक कंपनियों में जमा के रूप में अपने अस्थायी नकदी अधिशेष का उपयोग कर सकते हैं, जिनमें राजकोष बिल और अन्य शामिल हैं।
  • ऑन-साइट सॉफ्टवेयर अनुबंधों के मामले में धन का प्रत्यावर्तन - सॉफ्टवेयर निर्यातक कंपनी / फर्म द्वारा ऑन-साइट अनुबंधों के संबंध में अनुबंध मूल्य के 30 प्रतिशत के प्रत्यावर्तन की आवश्यकता के साथ भेज दिया गया है। तथापि, उन्हें अनुबंधों के पूरा होने के बाद ऑन-साइट अनुबंधों का मुनाफा वापस करना चाहिए।
 
7. सीमा शुल्क बंदरगाहों के माध्यम से माल का निर्यात
 
(i) सीमा शुल्क घोषित मूल्य को प्रमाणित करेगा और गैर-इलेक्ट्रॉनिक डाटा इंटरचेंज (EDI) बंदरगाह पर निर्यातक द्वारा प्रस्तुत निर्यात घोषणा पत्र (EDF) की दो प्रतियों पर बढ़ते क्रम में क्रमांक देगा।
 
(ii) सीमा शुल्क रिज़र्व बैंक को भेजने के लिए मूल ईडीएफ रखेगा और डुप्लिकेट कॉपी निर्यातक को लौटाएगा।
 
(iii) माल के शिपमेंट के समय, निर्यातक ईडीएफ की डुप्लिकेट कॉपी सीमा शुल्क को जमा करेंगे। माल की जांच करने के बाद, सीमा शुल्क प्रपत्र में मात्रा को प्रमाणित करेगा और निर्यात बिल बातचीत या संग्रह के लिए प्राधिकृतडीलरको प्रस्तुत करने के लिए निर्यातक को लौटा देगा।
 
(iv) निर्यात की तारीख से 21 दिनों के भीतरनिर्यातक डुप्लीकेट कॉपी शिपिंग दस्तावेजों और इनवॉइस की एक अतिरिक्त कॉपी के साथ EDF में नामित संबंधितप्राधिकृतडीलरको दर्ज करेगा।
 
(v) दस्तावेजों को बातचीत/ संग्रह के लिए भेजे जाने के बाद, प्राधिकृतडीलरनिर्यात डाटा प्रसंस्करण और निगरानी प्रणाली (EDPMS) के माध्यम से रिज़र्व बैंक को लेनदेन की रिपोर्ट करेगा और दस्तावेजों को उनके अंत में रखेगा।
 
(vi) स्थगित क्रेडिट व्यवस्था के तहत या इक्विटी भागीदारी के खिलाफ या संयुक्त रूप से विदेश में संयुक्त उद्यम के तहत किए गए निर्यात के मामले में, EDF में उपयुक्त स्थान पररिजर्व बैंक की मंजूरी की संख्या और तारीख और / या संबंधित आरबीआई परिपत्र की संख्या और तारीख दर्ज की जाएगी।
 
(vii) यदि EDF की डुप्लिकेट कॉपी गलत है या खो गई है, तो प्राधिकृतडीलर, सीमा शुल्क द्वारा प्रमाणित EDF की डुप्लिकेट कॉपी स्वीकार कर सकता है।
 
 
8. ईडीआई बंदरगाहों के माध्यम से किए गए माल / सॉफ्टवेयर का निर्यात
 
(i) शिपिंग बिल संबंधित प्राधिकरण (यदि निर्यात सीमा शुल्क के आयुक्त,या सेज के माध्यम से किया जाता है) को डुप्लिकेट में प्रस्तुत किया जाएगा ।
 
(ii) सत्यापन और प्रमाणिकरण के बाद, संबंधित प्राधिकारी शिपिंग बिल की एक प्रतिनिर्यात की तारीख से 21 दिनों के भीतर प्राधिकृतडीलर बैंक को जमा किए जाने के लिए चिह्नित किया गया शिपिंग बिल (विनिमयनियंत्रणकॉपी) शिपिंग दस्तावेज ग्रहण करने/ बातचीत के लिए निर्यातक को सौंप देगा। तथापि, ऐसे मामलों में जहां शिपिंग बिल की विनिमयनियंत्रणकॉपी सीबीईसी के परिपत्र संख्या 55/2016-सीमा शुल्क 23 नवंबर, 2016 के संदर्भ में नहीं छपी है और शिपिंग बिल का डाटा ईडीपीएमएस के साथ एकीकृत है, प्राधिकृतडीलर बैंक में शिपिंग बिल की विनिमयनियंत्रणकॉपी जमा करने की आवश्यकता नहीं होगी।
 
(iii) शिपिंग बिल की विनिमयनियंत्रणप्रति के निपटान का तरीका ईडीएफ के लिए समान होगा। चालान आदि की प्रतिलिपि के साथ फॉर्म की डुप्लिकेट प्रति एडीद्वारा रखी जाएगी और रिज़र्व बैंक को प्रस्तुत नहीं की जा सकती है। तथापि,जहॉं जहाजरानी बिल की विनिमयनियंत्रणकॉपी सीबीईसी के परिपत्र संख्या 55/2016 दिनांक 23 नवंबर 2016 के संदर्भ में मुद्रित नहीं है औरशिपिंग बिल का डाटा EDPMS के साथ एकीकृत है,तो शिपिंग बिल की विनिमयनियंत्रणप्रति के निपटान का प्रश्ननहीं उठेगा।
 
नोट: - ऐसे मामलों में जहां बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (IRDA) द्वारा विनियमित ईसीजीसी / निजी बीमा कंपनियां शुरू में निर्यातकों के दावों का निपटारा करती हैंऔर बाद में निर्यात की आय खरीदार / खरीदार के देश से प्राप्त की जाती है, इस प्रकार प्राप्‍त राशि में निर्यातकों का हिस्सा उस प्राधिकृतडीलर के माध्यम से वितरित किया जाता है जिसने ईसीजीसी / निजी बीमा कंपनियों द्वारा जारी प्रमाण पत्र की शिपिंग दस्तावेज प्राप्‍त होने के बाददस्‍तावेजों को रसीद के रूप में संभाल कर रखा था। प्रमाण पत्र में घोषणा पत्र की संख्या, निर्यातक का नाम, प्राधिकृतडीलर का नाम, बातचीत की तारीख, बिल संख्या, चालान मूल्य और वास्तव में ईसीजीसी / निजी बीमा कंपनी द्वारा प्राप्त राशि अंकित होगी।
 
 
9. डाक द्वारा माल का निर्यात
 
डाक प्राधिकरण केवल प्राधिकृतडीलर द्वारा ईडीएफ की मूल प्रति गिनने पर ही डाक से माल का निर्यात करने की अनुमति देगा। अत:, EDF जिसमें डाक द्वारा माल भेजना शामिल है, पहले निर्यातक द्वारा प्राधिकृतडीलर को प्रतिहस्‍ताक्षर के लिए प्रस्तुत किया जाना चाहिए। प्रक्रिया निम्नानुसार है:
 
(i) यह सुनिश्चित करने के बाद कि आयात के देश में पार्सल को उनकी शाखा या संवाददाता बैंक को संबोधित किया गया है,एडी ईडीपी पर प्रतिहस्‍ताक्षर करेंगे और मूल प्रति निर्यातक को लौटाएंगे, जो बाद में पार्सल के साथ डाकघर को EDF प्रस्तुत करेंगा।
 
(ii) ईडीएफ की डुप्लिकेट कॉपी को प्राधिकृतडीलर द्वारा अपने पास रख लिया जाएगा जिसे निर्यातक प्रासंगिक दस्तावेजों के साथ बातचीत / संग्रह के लिए अतिरिक्त कॉपी के साथ 21 दिनों की निर्धारित अवधि के भीतर जमा करेगा।
 
(iii) संबंधित विदेशी शाखा या संवाददाता को निर्देश दिया जाएगा कि पार्सल कोभुगतान के बदले या बिल को स्‍वीकार करके प्रेषिती को डिलीवर करें।
 
(iv) तथापि, प्राधिकृतडीलर प्रेषिती को भेजे गए पार्सलों के ईडीएफ कवरिंग पर प्रतिहस्‍ताक्षर करके सीधे प्रेषिती को भेज सकता है,बशर्ते:
 
  • निर्यात के पूर्ण मूल्य के लिए क्रेडिट का एक अपरिवर्तनीय पत्र निर्यातक के पक्ष में खोला गया है और प्राधिकृतडीलरया उसके माध्यम से सलाह दी गई है  या
  • शिपमेंट का पूरा मूल्य निर्यातक द्वारा प्राधिकृतडीलरके माध्यम से अग्रिम रूप से प्राप्त किया गया है। या
  • प्राधिकृतडीलरनिर्यातक के स्थायी और ट्रैक रिकॉर्ड और निर्यात आय की प्राप्ति के लिए की गई व्यवस्था के आधार पर संतुष्ट है।
 
ऐसे मामलों में, निर्यातक को उचित प्रमाणीकरण के तहत फॉर्म पर अग्रिम भुगतान / लेटर ऑफ क्रेडिट / प्राधिकृतडीलर का साख प्रमाण पत्र आदि का ब्‍योरा प्रस्तुत किया जाना चाहिए।
 
(v) ईडीएफ फॉर्म पर प्रेषिती के नाम और पते मेंकिसी भी तरह के बदलाव प्राधिकृतडीलर के हस्‍ताक्षर और उसके स्टाम्प के तहत प्रमाणित होने चाहिए।
 
 
10. तीसरे पक्ष की निर्यात से आय
 
तीसरे पक्ष से माल / सॉफ्टवेयर के निर्यात के संबंध में निर्यात आय की वसूली उचित रूप में निर्यातक द्वारा विधिवत घोषित की जानी चाहिए
 
 
11. ईडीएफ छूट का अनुदान
 
प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक निर्यातकों से EDF की छूट के अनुरोध पर निम्नानुसार विचार कर सकते हैं:
 
स्थिति धारक स्वतंत्र रूप से निर्यात करने योग्य वस्तुओं (रत्न और आभूषण, सोने और कीमती धातुओं के लेखों को छोड़कर) निर्यात प्रोत्साहन के लिए लागत के आधार पर एक करोड़ रुपये की वार्षिक सीमा या पूर्व तीन लाइसेंसिंग वर्षों के दौरान वार्षिक निर्यात वसूली की औसत वार्षिक निर्यात प्राप्ति का 2%, जो भी कम हो,निर्यात के हकदार होंगे।फार्मास्युटिकल कंपनियों द्वारा फार्मा उत्पादों के निर्यात के लिए, तीन लाइसेंसिंग वर्षों के दौरान वार्षिक सीमा औसत वार्षिक निर्यात प्राप्ति का 2% होगी। संयुक्त राष्ट्र, डब्ल्यूएचओ-पीएएचओ और सरकारी स्वास्थ्य कार्यक्रमों जैसी अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के स्वास्थ्य कार्यक्रमों के लिए दवा उत्पादों, टीकों और जीवन रक्षक दवाओं की आपूर्ति के मामले मेंवार्षिक सीमा तीन लाइसेंसिंग वर्षों के दौरान औसत वार्षिक निर्यात प्राप्ति का 8% तक होगी । किसी भी निर्यात प्रोत्साहन योजना के तहत इस तरह की मुफ्त आपूर्ति ड्यूटी ड्राबैक या किसी अन्य निर्यात प्रोत्साहन के हकदार नहीं होंगे।
 
प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से किसी भी विदेशी मुद्रा लेनदेन को शामिल नहीं करने वाले सामानों के निर्यात के लिए रिजर्व बैंक से ईडीएफ प्रक्रिया की छूट की आवश्यकता होती है।
 
 
12. निर्यात के खिलाफ अग्रिम की प्राप्ति
 
(1) अधिसूचना संख्या 15फेमा 23 (आर) / 2015-आरबी 12 जनवरी 2016 के विनियमन के संदर्भ में , जहां एक निर्यातक को भारत के बाहर एक खरीदार से अग्रिम भुगतान (ब्याज के साथ या बिना) प्राप्त होता है, निर्यातक यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्‍मेदार होगा कि माल का शिपमेंट अग्रिम भुगतान की प्राप्ति की तारीख से एक वर्ष के भीतर किया जाए; ब्याज की दर, यदि कोई हो, अग्रिम भुगतान पर देय लंदन इंटर-बैंक की ऑफर दर (LIBOR) + 100 आधार अंकों से अधिक न हो; और शिपमेंट को कवर करने वाले दस्तावेजों को प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक के माध्यम से भेजा जाए जिनके माध्यम से अग्रिम भुगतान प्राप्त हुआ है।
 
बशर्ते कि अग्रिम भुगतान की प्राप्ति की तारीख से एक वर्ष के भीतर आंशिक या पूरी तरह से शिपमेंट भेजने में निर्यातक की असमर्थता की स्थिति में, रिज़र्व बैंक की पूर्व स्वीकृति के बिना, एक वर्ष की उक्त अवधि की समाप्ति पर अग्रिम भुगतान के अप्रयुक्त हिस्से के रिफंड के लिए कोई विप्रेषण या ब्याज का भुगतान नहीं किया जाएगा।
 
EDPMS में निर्यात के लिए प्राप्त अग्रिम प्रेषण का विवरण EDPMSकैप्चर करेगा। इसके बाद, प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंकों को EDPMS को माल / सॉफ्टवेयर के निर्यात के लिए प्राप्त अग्रिम के साथ-साथ पुराने बकाया आवक विप्रेषणों की भी रिपोर्ट करनी होगी। इसके अलावा, प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंकों को,जहां कहीं भी ऐसे एफआईआरसी प्रेषण जारी किए जाते हैं, इलेक्ट्रॉनिक एफआरसी की रिपोर्ट ईडीपीएमएस को भेजनी होती है।
 
निर्यात के लिए प्राप्त अग्रिमों के उपयोग में देरी के लिए जमा की जाने वाली तिमाहीरिपोर्ट बंद कर दी गई है।
 
(2) प्राधिकृतडीलर श्रेणी-Iबैंक माल के निर्यात के लिए दीर्घकालिक आपूर्ति अनुबंधों के निष्पादन के लिए उपयोग किए जाने वाले 10 वर्षों के अधिकतम कार्यकाल तक लंबी अवधि के निर्यात अग्रिम प्राप्त करने के लिए न्यूनतम तीन वर्ष के संतोषजनक ट्रैक रिकॉर्ड वाले निर्यातकों को भी निम्नानुसार शर्तों के अधीन अनुमति दे सकते हैं।:
 
(i) फर्म के पास अपरिवर्तनीय आपूर्ति आदेश और अनुबंध होना चाहिए। विदेशी पार्टी / खरीदार के साथ अनुबंध पुनरीक्षण किया जाना चाहिए और उसमें उत्पादों की प्रकृति, राशि और वितरण समय और प्रदर्शन या अनुबंध रद्द होने के मामले में जुर्माना स्पष्ट रूप से निर्दिष्ट किया जाए। उत्पाद मूल्य प्रचलित अंतरराष्ट्रीय कीमतों के अनुरूप होना चाहिए।
 
(ii) कंपनी के पास क्षमता, प्रणाली और प्रक्रियाएँ होनी चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उक्त कार्यकाल की अवधि के दौरान ऑर्डर वास्तव में निष्पादित किए जा सकते हैं।
 
(iii) यह सुविधा केवल उन संस्थाओं को प्रदान की जानी है, जो प्रवर्तन निदेशालय या ऐसी किसी नियामक एजेंसी के प्रतिकूल नोटिस में नहीं आई हैं या जिन्हें सूचीबद्ध नहीं किया गया है।
 
(iv) इस तरह के अग्रिमों को भविष्य के निर्यात के माध्यम से समायोजित किया जाना चाहिए।
 
(v) देय ब्याज की दर, यदि कोई हो, तो एलएलबीओआर प्लस 200 आधार अंकों से अधिक नहीं होनी चाहिए ।
 
(vi) दस्तावेजों को केवल एक अधिकृत डीलर बैंक के माध्यम से भेजा जाना चाहिए।
 
(vii) अधिकृत डीलर बैंक को AML / KYC दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करना चाहिए।
 
(viii) इस तरह के निर्यात अग्रिमों को एनपीए के रूप में वर्गीकृत रुपये ऋणों का उपयोग करने की अनुमतिनहीं दी जाएगी।
 
(ix) निर्यात आदेशों के निष्पादन के लिए कार्यशील पूंजी के लिए दोहरे वित्तपोषण से बचा जाना चाहिए।
 
(x) 100 मिलियन अमरीकी डालर या इससे अधिक की अग्रिम प्राप्‍ति की रिपोर्ट तुरंत व्यापार मंडल, विदेशी मुद्रा विभाग, भारतीय रिज़र्व बैंक, केंद्रीय कार्यालय, मुंबई को भेजी जानी चाहिए।
 
(xi) यदि अधिकृत डीलर बैंकों को निर्यात प्रदर्शन के लिए बैंक गारंटी (बीजी) / लेटर ऑफ क्रेडिट (एसबीएलसी) जारी करना अपेक्षित है, तो अन्य क्रेडिट प्रस्ताव, दूसरों के बीच, बोर्ड की अनुमोदित नीति के आधार पर विवेकपूर्ण आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुएजारी करने का कठोरता से मूल्यांकन किया जाना चाहिए।
  • बीजी / एसबीएलसी को एक समय में अधिकतम दो वर्षों की अवधि के लिए जारी किया जा सकता है और अनुबंध के अनुसार संबंधित निर्यात प्रदर्शन के साथ संतुष्टि की शर्त पर एक बार में अधिकतम दो वर्ष का रोलओवर दिया जा सकता है।
  • बीजी / एसबीएलसी में शेष राशि को रिड्यूसिंग बैलेंस आधार पर केवल अग्रिम को कवर किया जाना चाहिए।
  • विदेशी खरीदार के पक्ष में भारत से जारी बीजी / एसबीएलसी को भारत में बैंक की विदेशी शाखा /सहायक द्वारा छूट नहीं दी जानी चाहिए।
 
नोट: प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंकों को बैंकिंग विनियमन विभाग द्वारा जारी गारंटी और सह-स्वीकृति पर मास्टर परिपत्र द्वारा निर्देशित किया जा सकता है।
 
(xii) प्राधिकृतडीलरश्रेणी-Iबैंक विभिन्न शाखाओं / बैंकों में रखे गए निर्यातक के ईईएफसी खातों में पूर्ण शेष का उपयोग करने के बाद ही ईईएफसी खाते में जमा अग्रिम भुगतान को वापस करने के लिए बाजार से विदेशी मुद्रा की खरीद की अनुमति दे सकते हैं।
 
(3) प्राधिकृतडीलर श्रेणी-Iबैंक निम्नलिखित शर्तों के अधीन निर्यातकों को उन वस्तुओं के निर्यात के लिए अग्रिम भुगतान प्राप्त करने की अनुमति दे सकते हैं जिनको बनाने और भेजने में एक वर्ष से अधिक का समय लेगा और जहां 'निर्यात समझौता'में भेजे जाने माल के शिपमेंट में अग्रिम भुगतान की प्राप्ति की तिथि से एक वर्ष की अवधि को आगे बढ़ाने का प्रावधान है:
 
(i) प्राधिकृतडीलर -बैंक द्वारा विदेशी खरीदार के लिए केवाईसी और ड्यू डिलिजेंस का अभ्यास किया गया है;
 
(ii) एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग मानकों का अनुपालन सुनिश्चित किया गया है;
 
(iii) प्राधिकृतडीलरश्रेणी- I बैंक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि निर्यातक द्वारा प्राप्त निर्यात अग्रिम का उपयोग निर्यात को निष्पादित करने न कि किसी अन्य उद्देश्य, लेनदेन अर्थात बोनाफाइड लेनदेन के लिए किया जाना चाहिए।
 
(iv) प्रगति भुगतान, यदि कोई हो, विदेशी खरीदार से सीधे पूरी तरह अनुबंध के संदर्भ में प्राप्त किया जाना चाहिए;
 
(v) ब्याज की दर, यदि कोई हो, अग्रिम भुगतान पर देय लंदन इंटर-बैंक की दर (LIBOR) + 100 आधार अंकसे अधिक नहीं होगी;
 
(vi) पिछले तीन वर्षों में प्राप्त अग्रिम भुगतान का 10% से अधिक धनवापसी का कोई आग्रह नहीं होना चाहिए;
 
(vii) शिपमेंट को कवर करने वाले दस्तावेजों को उसी अधिकृत डीलर बैंक के माध्यम से भेजा जाना चाहिए; तथा
 
(viii) शिपमेंट को आंशिक रूप से या पूरी तरह से बनाने में निर्यातक की असमर्थता की स्थिति में, अग्रिम भुगतान के अप्रयुक्त भाग के रिफंड के प्रति या ब्याज के भुगतान के लिए कोई प्रेषण, रिजर्व बैंक की पूर्व स्वीकृति के बिना नहीं किया जाना चाहिए।
 
(4) (i) जैसा कि पाया गया है कि ऐसे निर्यातों के गैर-प्रदर्शन (माल के निर्यात के मामले में लदान) के कारण निर्धारित अवधि से परे बकाया शेष के लिए प्राप्त अग्रिमों की संख्या और मात्रा में पर्याप्त वृद्धि हुई है। प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंकों को यह सुनिश्चित करने के लिए संबंधित निर्यातकों के साथ कुशलतापूर्वक सम्‍पर्क में रहने की सलाह दी जाती है ताकि निर्यात (माल के निर्यात के मामले में शिपमेंट) निर्धारित समय अवधि के भीतर भेज दिया जाए। 
 
(ii) यह भी दोहराया गया है कि प्राधिकृतडीलरश्रेणी- I बैंकों को ड्यू डिलिजेंस का प्रयोग करना चाहिए और केवाईसी और एएमएल दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करना चाहिए ताकि केवल बोनाफाइड निर्यात अग्रिम भारत में आएं। क्रोनिक डिफॉल्टरों के उदाहरणों के रूप में संदिग्ध मामलों को आगे की जांच के लिए प्रवर्तन निदेशालय (DoE) को भेजा जा सकता है। ऐसे मामलों के विवरण का एक तिमाही विवरण प्रत्येक तिमाही के अंत से 21 दिनों के भीतर आरबीआई के संबंधित क्षेत्रीय कार्यालयों को भेजा जा सकता है।
 

13. विदेश में व्यापार मेला / प्रदर्शनियों के लिए ईडीएफअनुमोदन

विदेश में ट्रेड फेयर / प्रदर्शनी में भाग लेने वाली फर्म / कंपनियाँ और अन्य संगठन रिज़र्व बैंक की पूर्वानुमति के बिना भारत के बाहर प्रदर्शनी और बिक्री के लिए सामान ले जा सकते हैं। एक ही देश या किसी तीसरे देश में प्रदर्शनी / व्यापार मेले के बाहर बिनाबिकीप्रदर्शनीआइटम बेचे जा सकते हैं। रियायती मूल्य पर ऐसी बिक्री भी अनुमन्य है। प्रति प्रदर्शनी/व्यापार मेले में प्रति निर्यातक 5000 अमरीकी डालर के मूल्य तक 'उपहार' के बिना बिकने वाले सामान के लिए भी यह स्वीकार्य होगा। प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक निम्नलिखित शर्तों के अधीन भारत से बाहर व्यापार मेलों / प्रदर्शनियों में प्रदर्शन या प्रदर्शन-सह-बिक्री के लिए निर्यात वस्तुओं के लिए ईडीएफ को मंजूरी दे सकते हैं: 

(i) निर्यातक बिना बिकी वस्तुओं का भारत में पुन: आयात करने के एक महीने के भीतर एंट्री बिल के सापेक्ष उत्पादन करेगा।

(ii)  निर्यातक निर्यात की गई सभी वस्तुओं के निपटान की विधिप्राधिकृतडीलरश्रेणी-Iबैंक को बताएगा -, साथ ही साथ भारत को आय का प्रत्यावर्तन भी करेगा।

(iii) प्राधिकृतडीलर श्रेणी - I बैंक द्वारा अनुमोदित ऐसे लेनदेन उनके आंतरिक निरीक्षकों / लेखा परीक्षकों द्वारा 100 प्रतिशत ऑडिट के अधीन होंगे।

 

14शिपिंग दस्तावेजों को जमा करने में निर्यातकों द्वारा विलम्‍ब

ऐसे मामलों में जहां निर्यातक निर्यात से संबंधित दस्तावेज निर्यात की तारीख से 21 दिनों की निर्धारित अवधि के बाद प्रस्‍तुत किए जाते हैं, प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक उन्हें रिज़र्व बैंक की पूर्व स्वीकृति के बिना संभाल सकते हैं, बशर्ते कि वे देरी के कारणों से संतुष्ट हों।

15. निर्यातक द्वारा दस्तावेजों का प्रत्यक्ष प्रेषण

(i) प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक सामान्यतः शिपिंग दस्तावेजों को उनकी विदेशी शाखाओं / संवाददाताओं के पास शीघ्र भेज दें। तथापि, वे शिपिंग दस्तावेजों को खेपों या उनके एजेंट के निवास से सीधे ऐसे मामलों में माल के अंतिम गंतव्‍य देशों में भेज सकते हैं:

  • निर्यात शिपमेंट के पूर्ण मूल्य के लिए अग्रिम भुगतान या क्रेडिट का एक अपरिवर्तनीय पत्र प्राप्त हुआ है और अंतर्निहित बिक्री अनुबंध / लेटर ऑफ क्रेडिट में माल के अंतिम गंतव्य के देश में खेप या उसके एजेंट के निवास पर दस्तावेजों को शीधे भेजने का प्रावधान हो।       
  • प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक निर्यातक के अनुरोध पर भी विचार कर सकते हैं बशर्ते कि निर्यातक एक नियमित ग्राहक है और प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक निर्यातक के स्थायी और ट्रैक रिकॉर्ड के और की गई व्यवस्था आधार पर निर्यात आय को भुनाने के प्रति संतुष्ट है।  
 
(ii) प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक ‘स्टेटस होल्डर एक्सपोर्टर्स’(जैसा कि विदेश व्यापार नीति में परिभाषित किया गया है), और विशेष आर्थिक क्षेत्रों (SEZ) में इकाइयों को भारत के बाहर खेप में निर्यात दस्तावेज भेजने की अनुमति दे सकते हैं, बशर्ते कि:
 
●     ईडीएफ में नामित प्राधिकृतडीलर बैंकों के माध्यम से निर्यात आय को प्रत्यावर्तित किया जाता है।       
●     एक्सपोर्ट की शिपमेंट की तारीख से 21 दिनों के भीतर निर्यातकों द्वारा मॉनिटरिंग उद्देश्यों के लिए ईडीएफ की डुप्लीकेट कॉपी प्राधिकृतडीलरबैंकों को सौंपी जाती है।       
 
(iii) प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक माल निर्यात शिपमेंट के अनुसार अंतिम गंतव्य देश में रहने वाले प्रेषिती या उसके एजेंट को 01 मिलियन अमरीकी डॉलर तक या उसके समतुल्‍य माल भेजने वाले निर्यातक को सीधे शिपिंग दस्तावेज भेजने मामलों को निम्नलिखित शर्तों के अधीन नियमित कर सकते हैं:
 
●     निर्यात की पूरी आयवसूल कर ली गई है।       
●     निर्यातक प्राधिकृतडीलरश्रेणी- बैंक का कम से कम छह महीने की अवधि के लिए नियमित ग्राहक है।       
●     प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक के साथ निर्यातक का खाता पूरी तरह से रिज़र्व बैंक के मौजूदा KYC / AML दिशानिर्देशों का अनुपालन करता है।       
●     प्राधिकृतडीलर श्रेणी -Iबैंक लेनदेन कीवास्तविकता के बारे में संतुष्ट हो जाता है।       
●     संदेह की स्थिति में, प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक FIU_IND (भारत में वित्तीय खुफिया इकाई) को संदिग्ध लेनदेन रिपोर्ट (STR) दाखिल करने पर विचार कर सकता है।       
 
16. खरीदार / खेप का बदलना
 
यदि माल भेज दिया गया है, तो उन्हें बाद में डिफ़ॉल्ट रूप से मूल खरीदार के अलावा किसी खरीदार को हस्तांतरित किया जाना चाहिए तो रिज़र्व बैंक की पूर्व स्वीकृति की आवश्यकता नहीं है, बशर्ते कि मूल्य में कमी, यदि कोई हो, शामिल है तथा इनवॉइस मूल्य के 25 प्रतिशत से अधिक नहीं है और निर्यात आय की प्राप्ति निर्यात की तारीख से 9 महीने की अवधि से अधिक देरी नहीं हुई है। जहां मूल्य में कमी 25% से अधिक है, पैरा C.17 में निर्धारित सभी अन्य प्रासंगिक शर्तों को भी संतुष्ट किया जाना चाहिए।
 
 
17. विशेष आर्थिक क्षेत्रों (सेज) द्वारा माल का निर्यात
 
(i) सेज में इकाइयों को विदेश में नौकरी करने और उसी देश से निम्‍नलिखित शर्तों के अधीन माल निर्यात करने की अनुमति है:
 
  • प्रसंस्करण / विनिर्माण शुल्क उपयुक्त रूप से निर्यात मूल्य में जोड़े जाते हैं और अंतिम खरीदार द्वारा वहन किए जाते हैं।       
  • निर्यातक ने सामान्य ईडीएफ प्रक्रिया के अधीन पूर्ण निर्यात आय की वसूली के लिए संतोषजनक व्यवस्था की है।       
 
(ii) प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक सेजमें इकाइयों को उन्‍हें आपूरित वस्तुओं के भुगतान के लिए विदेशी मुद्रा खरीदने के लिए डीटीए में इकाइयों को अनुमति दे सकते हैं। प्राधिकृत डीलर बैंकों को अनुमति है कि वह डीटीए की किसी यूनिट को उसके (यानी सेजमें किसी इकाई) द्वारा प्रदान की गई सेवाओं के लिए विदेशी मुद्रा में भुगतान करने के लिए विदेशी मुद्रा की बिक्री कर सकता है। यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि सेजके विकास आयुक्त (डीसी) द्वारा सेजइकाई को जारी किए गए अनुमोदन पत्र (एलओए) में सेजयूनिट द्वारा डीटीए इकाई को आपूर्ति की गई वस्तुओं/सेवाओं और उनका भुगतान विदेशी मुद्रा किये जाने का उल्लेख है।
 
 
18. समय का विस्तार
 
(i) भारतीय रिज़र्व बैंक ने प्राधिकृतडीलरश्रेणी - Iबैंकों को निर्यात आय की प्राप्ति की अवधि का निर्यात की तारीख से वसूली की अवधि से परे निम्‍नलिखित शर्तों पर एक बार में, छह महीने की अवधि तकविस्तार करने की अनुमति दी हैभले ही चालान मूल्य कुछ भी हो:
 
  • चालान द्वारा कवर किए गए निर्यात लेनदेन की प्रवर्तन निदेशालय / केंद्रीय जांच ब्यूरो या अन्य जांच एजेंसियों द्वारा जांच की जा सकती है,       
  • प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक संतुष्ट है कि निर्यातक अपने नियंत्रण से परे कारणों के लिए निर्यात आय को वसूल नहीं कर पाया है,       
  • निर्यातक एक घोषणा प्रस्तुत करता है कि विस्तारित अवधि के दौरान निर्यात आय वसूल होगा,       
  • निर्यात की तारीख से एक वर्ष से अधिक के विस्तार पर विचार करते समय, निर्यातक का कुल बकाया पिछले तीन वित्तीय वर्षों के दौरान, एक मिलियन या 10 प्रतिशत,जो भी अधिक हो,से अधिक न हो।       
  • उन मामलों में जहां निर्यातक ने खरीदार के खिलाफ विदेश में मुकदमा दायर किया है, विस्तार की मंजूरी दी जा सकती है भले ही इसमें शामिल राशि / बकाया कितनी भी है।
 
(ii) जिन मामलों को उपरोक्त निर्देशों द्वारा कवर नहीं किया गया है, उनके लिए रिज़र्व बैंक के संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय से पूर्व अनुमोदन की आवश्यकता होगी।
 
(iii) ईडीपीएमएस में रिपोर्ट भेजी जानी चाहिए।
 
 
19. अप्रमाणित निर्यात बिलों को बट्टे खाता डालना "राइट-ऑफ" 
 
(i) जो निर्यातक बेहतरीन प्रयासों के बावजूद निर्यात बकाया की वसूली नहीं कर पाया है, वह उपयुक्त श्रेणी के दस्तावेजी साक्ष्य के साथ संबंधित शिपिंग दस्तावेजों को संभालने वाले प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंकों को स्वयं लिख सकता है या उनसे संपर्क कर सकता है। गैर-वसूल निर्यात बिलों को बट्टे खाते डालने के लिए निर्धारित सीमाएँ निम्नानुसार हैं:
 
किसी निर्यातक द्वारा स्वयं "राइट-ऑफ"
(स्थिति धारक निर्यातक के अलावा) 
5%*
स्थिति धारक निर्यातकों द्वारा स्वयं "राइट-ऑफ"
10%*
प्राधिकृत डीलर बैंक द्वारा "राइट-ऑफ"
10%*
* पिछले कैलेंडर वर्ष के दौरान प्राप्त कुल निर्यात आय।

(ii) उपरोक्त सीमाएँ पिछले कैलेंडर वर्ष के दौरान प्राप्त कुल निर्यात आय से संबंधित होंगी और एक वर्ष में संचयी रूप से उपलब्ध होंगी।

(iii) उपरोक्त राइट-ऑफ इन शर्तों के अधीन होगा कि संबंधित राशि एक वर्ष से अधिक समय से बकाया है, निर्यातक के समर्थन में संतोषजनक दस्तावेजी साक्ष्य प्रस्तुत किए गए हैं, जिन्होंने बकाया राशि वसूल करने के लिए सभी प्रयास किए हैं, और मामला निम्न श्रेणियों में से कोई भी श्रेणी में आता है:

  • विदेशी खरीदार को दिवालिया घोषित किया गया है और आधिकारिक परिसमापक से एक प्रमाण पत्र प्राप्त किया गया है जो बताता है कि निर्यात आय की वसूली की संभावना नहीं है।
  • विदेशी खरीदार लंबी समयावधिसे लापता है।
  • निर्यात किए गए सामान को आयात करने वाले देश में बंदरगाह/ सीमा शुल्क/स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा नीलाम या नष्ट कर दिया गया है।
  • भारतीय दूतावास, विदेशी चैंबर ऑफ कॉमर्स या इसी तरह के संगठन के हस्तक्षेप के माध्यम से किसी मामले के कारण गैर-वसूल राशि संतुलन का प्रतिनिधित्व करती है;
  • गैर-वसूलीराशि किसी निर्यात बिल के गैर-आहरित शेष (चालान मूल्य के 10% से अधिक नहीं) का प्रतिनिधित्व करती है और निर्यातक द्वारा किए गए भरसक प्रयासों के बावजूद उसकी वसूली नहीं हो पाती है;
  • कानूनी कार्रवाई का सहारा लेने की लागत निर्यात बिल की गैर-वसूल राशि के लिए गैर-अनुपातिक होगी या जहां विदेशी खरीदार के खिलाफ कोर्ट केस जीतने के बाद भी निर्यातक अपने नियंत्रण से परे कारणों के कारण अदालत के फैसले को निष्पादित नहीं कर सका;
  • साख मूल्य पत्र और वास्तविक निर्यात मूल्य के बीच के अंतर या अनंतिम और वास्तविक माल ढुलाई शुल्क के बीच के अंतर के लिए बिल तैयार किए गए थे, लेकिन विदेशी खरीदार द्वारा बिलों को अनादरकिए जाने के कारण उनकी वसूली नहीं हो पाई और उनके वसूल होने की कोई संभावना नहीं है।       

(iv) निर्यातक ने शिपमेंट के संबंध में पहले प्राप्त आनुपातिक निर्यात प्रोत्साहनों के लाभ त्‍याग दिए हैं। प्राधिकृतडीलरश्रेणी - I बैंकों को संबद्ध बिलों को बट्टे खाते डालने की अनुमति देने से पहलेवे दस्‍तावेज प्राप्त करने चाहिए जो प्राप्‍त किए गए लाभ को त्‍यागने के सबूत हों।

(v) स्वयं-राइट-ऑफ के मामले में, निर्यातक को संबंधित प्राधिकृतडीलरबैंक, किसी चार्टर्ड अकाउंटेंट से प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना चाहिए, जो पूर्ववर्ती कैलेंडर वर्ष में निर्यात की प्राप्ति का संकेत देता हो और वर्ष के दौरान पहले से प्राप्त राइट-ऑफ की राशि,यदि कोई हो, बंद किए गएसंबंधित ईडीएफबिल नं, चालान मूल्य, निर्यात की गई वस्तु, निर्यात का देशका भी उल्लेख हो। अधिकार प्रमाणपत्रमेंयह भी उल्‍लेख हो सकता है कि निर्यातक द्वारा लिए गए निर्यात लाभ, यदि कोई हो, को त्‍याग कर दिया गया है।

(vi) तथापि, बट्टे खाते डालने की सुविधा के लिए निम्नलिखित पात्र नहीं होंगे:

●     बाह्यीकरण की समस्या से ग्रसित देशों को किया गया निर्यात, जहां विदेशी खरीदार ने स्थानीय मुद्रा में निर्यात का मूल्य जमा किया है, लेकिन देश के केंद्रीय बैंकिंग अधिकारियों द्वारा इस राशि को वापस नहीं लिया जा सकता है।       

●     ईडीएफजिनकी एजेंसियों, प्रवर्तन निदेशालय, राजस्व आसूचना निदेशालय, केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो, इत्यादि के द्वारा जांच चल रही है और सिविल / आपराधिक मुकदमे में फंसे बकाया बिल।       

vii) प्राधिकृतडीलरबैंकों को बट्टे खाते डाले गए निर्यात बिलों की रिपोर्ट ईडीपीएमएस के माध्यम से रिज़र्व बैंक को भेजनी चाहिए।

viii) प्राधिकृत बैंकों को सलाह दी जाती है कि ऐसी प्रणाली बनाएं जिसके अंतर्गत उनके आंतरिक निरीक्षक या लेखा परीक्षक (जिसमें प्राधिकृत डीलरों द्वारा नियुक्त बाहरी लेखा परीक्षक भी शामिल हैं) बट्टे खाते डालने के लिए बकाया निर्यात बिलों की यादृच्छिक नमूना जाँच / प्रतिशत जॉंच कर लें।

ix)   उपरोक्त निर्देशों / उपरोक्त सीमाओं से परे कवर नहीं किए गए मामलों को भारतीय रिज़र्व बैंक के संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को भेजा जा सकता है।

20. निर्यात के दावे

(i)   प्राधिकृतडीलर श्रेणी-I बैंक आवेदन पर निर्यात दावों को त्‍याग सकते हैं, बशर्ते कि संबंधित निर्यात आय पहले ही वसूल गई हो और भारत को वापस कर दी गई हो और निर्यातक रिजर्व बैंक की हिदायत सूची में न हो।

(ii)   त्‍याग के ऐसे सभी मामलों में, निर्यातक को स्‍वयं को प्राप्‍त आनुपातिक निर्यात प्रोत्साहन,यदि कोई हो,को सरेंडर करने की सलाह दी जानी चाहिए।

21.बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDA) द्वारा विनियमित ईसीजीसी और निजी बीमा कंपनियों द्वारा दावों के भुगतान को बट्टे खाते में डालने के मामले

(i)प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक, ईसीजीसीके दस्तावेजी साक्ष्य और IRDA द्वारा विनियमित निजी बीमा कंपनियों की इस पुष्टि के साथ,जिसमें कहा गया हो कि उनके द्वारा बकाया बिलों के संबंध में दावे का निपटान कर दिया गया है, आवेदन प्राप्‍त होने पर EDPMS में सापेक्ष निर्यात बिल को बट्टे खाते डाल सकता है।

(ii)   इस तरह के राइट-ऑफ को ऊपर उल्लिखित 10 प्रतिशत की सीमा तक सीमित नहीं किया जाएगा।

(iii) ऐसे मामलों में प्रोत्साहन का समर्पण, यदि कोई हो, तो विदेश व्यापार नीति में उल्‍लिखित प्रावधान के अनुसार प्रदान किया जाएगा।

(iv) IRDA द्वारा विनियमित ईसीजीसी और निजी बीमा कंपनियों द्वारा रुपए में निबटाए गए दावों को विदेशी मुद्रा में निर्यात वसूली के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।

22. बट्टे खाते मेंडालना– छूट

विदेश व्यापार नीति (एफ़टीपी), 2015-20 में की गई घोषणा के अनुसार, उक्त एफटीपी के तहत किसी भी निर्यात प्रोत्साहन योजना के तहत निर्यात आय की वसूली की निम्नलिखित शर्तों के अधीन, अनुमति नहीं दी जाएगी:

●     मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसारमेरिटके आधार पर बट्टे खाते डालने की अनुमति भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा या भारतीय रिज़र्व बैंक की ओर से प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंको द्वारा दी जाती है;       

●     निर्यातक खरीदार से निर्यात आय की वसूली न करने के तथ्य के बारे में संबंधित भारत के विदेशी मिशन से प्रमाण पत्र प्रस्‍तुत करता है; तथा       

●     यह सेल्फ राइट ऑफ मामलों में लागू नहीं होगा।       

23. निर्यातकों की हिदायत सूची

1) ईडीपीएमएस में निर्यातकों की हिदायत सूची/डी-लिस्‍टिंग सूची स्वचालित है। हिदायती निर्यातकों की अद्यतन सूची को दैनिक आधार पर ईडीपीएमएस के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। EDPMS में निर्यातकों की हिदायती/डी-लिस्‍टिंग के लिए निर्धारित मानदंड निम्नानुसार हैं:

●   अगर निर्यातकों के खिलाफ कोई भी शिपिंग बिल ईडीपीएमएस में दो साल से अधिक समय तक खुला रहे उन निर्यातकों को सूचीबद्ध किया जाएगा, बशर्ते कि कोई विस्तार ई-कैटेगरी बैंक / आरबीआई द्वारा प्रदान नहीं किया गया हो। शिपमेंट की तारीख को वसूली की अवधि माना जाएगा।       

●   एक बार संबंधित बिलों को वसूली के बाद बंद कर दिया जाता है या वसूली के लिए एक्सटेंशन दे दिया जाता है, तो निर्यातक स्वचालित रूप से सूचीबद्ध हो जाएगा।       

●   प्राधिकृतडीलरबैंकों की सिफारिश के आधार पर निर्यातकों को दो साल की अवधि समाप्त होने से पहले भी सूचीबद्ध किया जा सकता है। सिफारिश उन मामलों पर आधारित हो सकती है जहां निर्यातक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) / केंद्रीय जांच ब्यूरो / राजस्व खुफिया निदेशालय/ इस तरह के किसी अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसी या उस मामले के निर्यातक के प्रतिकूल सूचना आई है –जहॉं निर्यातक निर्यात आय या वसूली के लिए कोई गंभीर प्रयास नहीं करता है। ऐसे मामलों में, प्राधिकृतडीलररिज़र्व बैंकके संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को अपने निष्कर्ष अग्रेषित कर सकता है, निर्यातक का नाम हिदायत सूची में शामिल करने की सिफारिश करता है।       

●    रिज़र्व बैंक, प्राधिकृतडीलरश्रेणी - I बैंकों की अनुशंसा के आधार पर ऐसे मामलों में निर्यातकों को हिदायत सूची में शामिल करेगा/हिदायत सूची से हटाएगा।

2)   प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंकों को सूचीबद्ध निर्यातकों के संबंध में शिपिंग दस्तावेज संभालते समय नीचे सूचीबद्ध प्रक्रिया का पालन करना चाहिए:

(क)वे निर्यातकों को बकाया शिपिंग बिलों का विवरण देते हुए उन्‍हेंहिदायती सूची के बारे में बताएंगे। जब हिदायती सूची में सूचीबद्ध निर्यातक बातचीत / खरीद / छूट / संग्रह आदि के लिए शिपिंग दस्तावेज जमा करते हैं, तो प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक निम्नलिखित शर्तों के अधीन दस्तावेजों को स्वीकार कर सकता है: -

●     संबंधित निर्यातकों को प्रस्तावित निर्यात के पूर्ण मूल्य को कवर करने के लिए अग्रिम भुगतान या उनके पक्ष में ऋण का अपरिवर्तनीय पत्र प्राप्त होने का प्रमाण प्रस्तुत करना चाहिए;       

●     मुद्दती बिलों के मामले में, सापेक्ष लेटर ऑफ क्रेडिट में पूर्ण निर्यात मूल्य को कवर किया जाना चाहिए और इस तरह के आहरण की भी अनुमति होनी चाहिए। इसके अलावा, मुद्दती बिल शिपमेंट बिल की तारीख से निर्धारित समयावधि के भीतरपरिपक्व भी होना चाहिए।       

●     2 (क) (i) और (ii) में दीगई उपर्युक्त शर्तों के अलावा, प्राधिकृतडीलरबैंकों को हिदायती सूची सूचीबद्ध निर्यातकों के शिपिंग दस्तावेजों पर कार्यवाही नहीं करनी चाहिए।

(ख) प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंकों को हिदायती सूची में सूचीबद्ध निर्यातकों के लिए गारंटी जारी करने के लिए रिज़र्व बैंक की पूर्व स्वीकृति लेनी चाहिए।

24.  प्राधिकृतडीलरद्वारा गारंटी जारी करना

(i)   प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक निर्यातक द्वारा प्रस्तुत आवेदन करने पर, या तो विप्रेषण द्वारा या चालान मूल्य से कटौती करके कमीशन के भुगतान की अनुमति दे सकते हैं। एजेंसी कमीशन पर विप्रेषण की निम्‍नलिखित शर्तों के अधीन अनुमति दी जा सकती है:

  • ईडीएफ/ सॉफ्टेक्‍सफॉर्म पर कमीशन की राशि घोषित की गई हो और यथास्‍थति सीमा शुल्क अधिकारियों या सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार/ईपीजेडअधिकारियों द्वारा स्‍वीकृत हो। ऐसे मामलों में जहां ईडीएफ/ सॉफ्टेक्‍सफॉर्म पर कमीशन घोषित नहीं किया गया हो, एक्सपोर्ट डिक्लेरेशन फॉर्म पर कमीशन की घोषणा न करने को लेकर निर्यातक द्वारा जोड़े गए कारणों से संतुष्ट होने के बाद विप्रेषण की अनुमति दी जा सकती है, बशर्ते कि निर्यातकों और / या लाभार्थी के बीच कमीशन के भुगतान के लिए कोई वैध समझौता / लिखित सहमतिमौजूद है।
  • सापेक्ष शिपमेंट पहले ही बनाया जा चुका है।       

(ii)   प्राधिकृतडीलरश्रेणी-I बैंक निम्नलिखितशर्तों के अधीन भारतीय निर्यातकों द्वारा निर्दिष्ट यूएस डॉलर में एस्क्रो खातों के माध्यम से कवर किए गए, अपने निर्यात के संबंध में काउंटर ट्रेड व्यवस्था के तहत कमीशन के भुगतान की अनुमति दे सकते हैं:

●     कमीशन का भुगतान उपरोक्त (पैरा) (i) में निर्धारित (क) और (ख) की शर्तों को पूरा करता हो।       

●     एस्क्रो खाताधारकों को स्वयं कमीशन देय न हो।       

●     कमीशन को चालान मूल्य से कटौती की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

(iii)  भारतीय साझेदारों द्वारा चाय और तंबाकू के निर्यात के चालान मूल्य के 10 प्रतिशत तक कमीशन को छोड़कर,विदेशी संयुक्त उद्यम/ पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी में किए गए निर्यात तथा साथ ही रुपये क्रेडिट रूट के तहत निर्यात पर भी कमीशन का भुगतान निषिद्ध है।

-------------------------------------------------------------------------------------------------

 

 


निर्यातकों के लिए
अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
आई.टी.सी एच.एस कोड को खोजें
एच.एस. कोड
 (केवल 2 से 6 अंक टाइप करें)
 या
उत्पाद
         
आगामी कार्यक्रम
नवीनतम समाचार
महत्वपूर्ण लिंक